माइग्रेन के घरेलू उपचार

लोकप्रिय

माइग्रेन एक गंभीर बीमारी है जिसमें रोगी को बेचैन कर देने वाला सिरदर्द होता है ।  माइग्रेन का दर्द बहुत ही तेज होता है जिसमें सिर के एक भाग में ही तेज दर्द होने लगता है ।

इसे अर्धकपारी भी कहते है । यह दर्द अपने-आप शुरू होता है और कई बार तो दवाई लेने पर भी यह दर्द नहीं जाता । कभी-कभी सिरदर्द के अधिक बढ़ जाने पर उल्टियाँ भी आ सकती है । माइग्रेन के कुछ रोगियों को दर्द होने पर आवाज और रोशनी से भी समस्या होने लगती है ।

यह दर्द सिर से शुरू होकर आँख, जबड़े और कनपटी तक फैल जाता है । `यह दर्द कई हफ्तों या महीनों तक या फिर सालों तक एक खास अन्तराल में होता है । यह दर्द कुछ घंटों से लेकर तीन दिन तक बना रहता है । आज तो यह बीमारी बहुत ही आम बीमारी हो चुकी है ।

माइग्रेन के कई कारण हो सकते हैं, जैसे; बहुत अधिक चिंता करना, देर रात तक काम करना, मानसिक दुर्बलता, जुकाम, कब्ज, हिस्टीरिया (Histeria), नशीली पदार्थ और शराब का सेवन आदि । कुछ घरेलू उपचारों के माध्यम से माइग्रेन के दर्द से निजात पाया जा सकता है ।

माइग्रेन के लिए घरेलू नुस्खें

  1. सेब का सिरका : सेब का सिरका माइग्रेन के दर्द को दूर करने में सहयता करता है । इतना ही नहीं सेब का सिरका शरीर संबंधी कई रोगों के लिए लाभदायक हैं, जैसे; रक्तचाप को नियंत्रित करना, रक्त में चीनी की मात्रा को नियंत्रित करना, हड्डियों के दर्द को कम करना, वजन घटाने में मदद करना, कब्ज से मुक्ति दिलाना आदि । माइग्रेन के उपचार के लिए एक चम्मच सेब के सिरके को एक गिलास पानी में मिलायें । उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर रोजाना दिन में एक बार पीने से माइग्रेन के दर्द से मुक्ति मिलती है ।
  2. अदरक : माइग्रेन के दर्द से छुटकारा पाने के लिए अदरक का प्रयोग बहुत ही असरदार है । अदरक में प्रतिजीवाणु पाये जाते हैं, जो माइग्रेन के दर्द को मिटाने में सहायक होते हैं । दो से तीन कप पानी में एक अदरक का टुकड़ा बारीक काटकर उबाल लें, फिर उसे छानकर, उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से माइग्रेन के दर्द से राहत मिलती है ।
  3. अलसी के बीज (Flaxseed) : अलसी के बीजों में पाये जाने वाले ओमेगा 3 फैटी एसिड (Omega-3 fatty acid) और फाइबर (Fiber) माइग्रेन के दर्द को कम करने में सहायक है । सुबह खाली पेट दो चम्मच अलसी के बीज चबाकर खा सकते हैं अथवा अलसी के तेल का प्रयोग भी कर सकते हैं । इसके सेवन से पेट भी साफ रहता है ।
  4. मछली का तेल : मछली के तेल का सेवन करने से माइग्रेन का दर्द कम होता है । मछली का तेल रक्तचाप को नियंत्रित करके दिल की धड़कनों को सुचारू रूप से चलाता है । मछली के तेल में भी ओमेगा 3 फैटी एसिड (Omega-3 fatty acid) की मात्रा पायी जाती है । बाजार से मछली खरीदते समय मछली का तेल जरुर लें और उसे साफ करके तौलकर खा सकते है ।
  5. अंगूर : अंगूर का रस माइग्रेन के दर्द से मुक्ति दिलाने का काफी महत्वपूर्ण विकल्प है । आप साबुत अंगूर का सेवन कर सकते हैं अथवा अंगूर को पीसकर उसका रस निकालकर उसमें थोड़ी-सी मात्रा में पानी और शहद मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं ।
  6. बंधगोभी की पत्तियां : बंधगोभी के पौधे की पत्तियां माइग्रेन के दर्द का प्रभावी उपचार है । बंधगोभी के पौधे के कुछ पत्तियों को मसले और उन्हें एक कपड़े में डालकर सिर के आसपास बांध लें । इसे कुछ समय तक बांध कर रखें । आप इसे बांधकर सो भी सकते हैं । इससे आपको माइग्रेन के दर्द से राहत मिलेगी ।
  7. लहसुन : लहसुन में जलनरोधी और एंटीबायोटिक (Antibiotic) गुण होते हैं और यह माइग्रेन का काफी बेहतरीन उपचार है । कुछ लहसुन की कलियों को पीसकर एक लेप तैयार करके माथे पर लगाने से दर्द कम हो जाता है । इसके अलावा सुबह खाली पेट लहसुन की दो कलियों को चबाकर खा सकते हैं । आप अपने भोजन में भी लहसुन को शामिल करके माइग्रेन के दर्द से निजात पा सकते हैं ।
  8. तुलसी : तुलसी के पत्तों की खुशबू-भर से ही माइग्रेन का दर्द काफी हद तक ठीक हो जाता है । तुलसी दर्द को ठीक करने में मदद करता है । आप तुलसी के कुछ ताजे पत्तों को चबाकर खा सकते है । इससे जुकाम की समस्या से भी राहत मिलेगी । इसके अलावा आप तुलसी की चाय बनाकर भी पी सकते हैं । एक कप पानी में दस से बारह तुलसी के ताजे पत्तों को डालकर धीमी आँच पर उबालें । फिर पानी के हल्का ठंडा होने पर छान लें । उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर पीयें । इस उपचार को निरंतर करने से माइग्रेन के दर्द से आपको राहत मिलेगी ।
  9. धनिया के बीज : एक कप पानी को उबालें, फिर उसमें एक चम्मच धनिया के बीज मिलाये और फिर पानी से उठने वाले भाँप को सूंघें । इससे माइग्रेन के दर्द से काफी हद तक छुटकारा मिल जाता है । वैकल्पिक तौर पर आप धनिया के कुछ बीजों को चबाकर भी खा अकते हैं या फिर अपने भोजन में भी इसे शामिल कर सकते हैं ।
  10. योग : रोजाना नियमित रूप से योग या व्यायाम करने से माइग्रेन की समस्या से आपको राहत मिल सकती है ।
  11. हिंग : हिंग में भी माइग्रेन के दर्द को कम करने की क्षमता है । तीन से चार चम्मच पानी में हिंग को घोलकर उसके गंध को सूंघ सकते हैं अथवा थोड़े-से पानी के साथ हिंग मिलाकर एक लेप तैयार करके उसे अपने सिर पर लगा सकते हैं । ये दोनों तरीके माइग्रेन के दर्द को कम करने में मददगार हैं ।
  12. कपूर : कपूर माइग्रेन के दर्द को कम करने में मदद करता है । थोड़े-से घी में कपूर मिलाकर माथे पर लगाने से माइग्रेन के दर्द से निजात मिल सकता है ।
  13. नींबू का छिलका : नींबू के छिलके में भी माइग्रेन के दर्द को कम करने की क्षमता है । नींबू के छिलके को पीसकर एक लेप तैयार कर लें । उसी लेप को माथे पर लगाने से माइग्रेन के दर्द से छुटकारा मिलता है ।
  14. दूध : वसा (Fat) रहित दूध या उससे बने पदार्थ माइग्रेन के दर्द को ठीक करने में सहयक है । इसमें विटामिन बी (Vitamin B) होता है जो कोशिकाओं को ऊर्जा प्रदान करती है । इसलिए आप वसा रहित दूध का सेवन करके माइग्रेन के दर्द से निजात पा सकते हैं ।
  15. हरी पत्तेदार सब्जियां : हरी पत्तेदार सब्जियों में मैग्नीशियम (Magnesium) की मात्रा अधिक होती है जो माइग्रेन के दर्द को ठीक करने में मदद करता है । अतः अपने रोजाना के खाद्य में हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें ।
  16. लैवेंडर तेल (Lavender Oil) : लैवेंडर तेल की खुशबू इतनी अच्छी होती है कि इसकी सुगंध से ही माइग्रेन का दर्द कम हो जाता है । दो कप उबलते हुए पानी में दो से चार बूंद लैवेंडर के तेल को मिलायें, फिर पानी से उठने वाली भाँप को सूंघें । इस उपचार से आपको माइग्रेन के दर्द से राहत मिलेगी ।
  17. मक्खन और मिश्री : मक्खन में मिश्री मिलाकर चबा चबाकर खाने से माइग्रेन के दर्द से राहत मिलती है ।
  18. कालीमिर्च : पाँच से छः कालीमिर्च चबा चबाकर खायें और फिर ऊपर से दो चम्मच देशी घी पीयें । इस उपचार से माइग्रेन धीरे-धीरे ठीक हो जाता है ।
  19. गाजर का रस : माइग्रेन में गाजर बहुत ही लाभकारी होता है । आप गाजर का रस निकालकर पी सकते है, या फिर गाजर के रस को चकुंदर के रस के साथ भी ले सकते है अथवा पालक के पत्तियों के रस के साथ भी ले सकते है । इसके नियमित सेवन से माइग्रेन के दर्द से छुटकारा मिल सकता है ।
  20. गुड़ : माइग्रेन के दर्द से राहत पाने के लिए बारह ग्राम गुड़ को छः ग्राम देशी घी के साथ खा सकते हैं । इसके निरंतर सेवन से माइग्रेन के दर्द से निजात मिल सकता है ।
  21. कॉफ़ी (Coffee) : माइग्रेन के दर्द का प्रभाव एक कप कॉफ़ी पीने से कम हो जाता है । कॉफ़ी में मौजूद कैफीन (Caffeine) न सिर्फ माइग्रेन के कारकों को रोकता है बल्कि इसे पैदा करने वाली रक्त की धमनियों को भी संकुचित करता है । इसलिए माइग्रेन का दर्द होने पर उससे राहत पाने के लिए एक कप कॉफ़ी का सेवन करें ।
  22. बादाम : माइग्रेन का दर्द होने पर बादाम चबाकर खा सकते हैं । इससे माइग्रेन के दर्द से तुरंत राहत मिल जायेगी ।
  23. पुदीना : पुदीना में पाये जाने वाले आवश्यक तत्व माइग्रेन के दर्द को दूर करने में मददगार है । आप पुदीने की चाय बनाकर पी सकते है । एक कप पानी में पुदीने के दस से बारह ताजे पत्तों को डालकर, धीमी आँच पर उबालें । फिर उसे छानकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से माइग्रेन के दर्द से राहत मिलेगी । आप पुदीने के तेल को अपने माथे पर लगाकर हलके हाथों से मालिश भी कर सकते हैं । इससे भी माइग्रेन के दर्द से छुटकारा मिलता है ।

उपर्युक्त घरेलू नुस्खों को अपनाकर माइग्रेन के दर्द से छुटकारा मिल सकता है । यदि इन उपायों को अपनाकर भी दर्द बरकार रहें तो डॉक्टर की सलाह लेकर उपयुक्त जांच करवाएं ।

माइग्रेन की बीमारी होने पर कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए, जैसे :

माइग्रेन के घरेलू उपचार

  • किसी भी तरह के खट्टे पदार्थों का सेवन न करें । अचार, पानी-पूरी, आलूबुखारा और इन जैसे पदार्थों का सेवन बिल्कुल न करें । इससे माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है ।
  • बाहर का अस्वास्थ्यकर खाना बिल्कुल न खायें । आजकल जंक फूड (Junk food) का बोलबाला है, लेकिन इस तरह के खाद्य माइग्रेन के रोगियों के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं ।
  • धूम्रपान और मद्यपान बिल्कुल न करें । माइग्रेन के रोगियों को किसी भी तरह के नशीली पदार्थों से दूर रहना चाहिए ।
  • माइग्रेन के रोगी को ध्वनि और प्रदूषित जगहों से दूर रहना चाहिए ।
  • माइग्रेन के रोगी को ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए ।
  • पूरी नींद लें और ज्यादा से ज्यादा पानी पीयें ।

यह लेख केवल सूचनात्मक / शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है। Healthtian चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है और अधिक जानें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

पढ़ना

वजन बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय

आज एक ओर जहाँ बहुत से लोग मोटापे से परेशान हैं वहीँ दूसरी ओर ऐसे भी लोग हैं जो...

Sorry Messages In Hindi

Sorry SMS In Hindi For Boyfriend/ Sorry SMS In Hindi For Boyfriend/ Sorry SMS For Boyfriend/ Sorry SMS For Boyfriend in HINDI/ Sorry SMS...

लड़की को कैसे अट्रैक्ट करे – Ladakee ko Kaise Atraikt Kare

आज के वक्त में हर लड़का चाहता है की उसकी एक गलफ्रेंड हो। पर हर कोई इतना लकी नहीं होता और उन्हें गलफ्रेंड नहीं...

लड़की पटाने के टिप्स इन हिंदी – Ladki Patane Ke Tips in Hindi

आज के वक्त में गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड होना बहुत जरुरी हैं पर कैसे पटाये लड़की? यह एक सोचने वाली बात है। हमारे इस लेख...

लड़को को कैसे अट्रैक्ट करे – Ladako ko Kaise Atraikt Kare

हर लड़की के जिंदगी में एक ऐसा पल आता है जब वह किसी लड़के को देख कर खुद ही उनसे आकर्षित हो जाती है।...

इस तरह के अधिक लेख